श्री बालाजी गोशाला संस्थान, आपका हार्दिक अभिनन्दन करता हैं !

Loading... स्थापना एवं विकास क्रम

भारतीय संस्कृति का आध्यात्मिक ही नहीं अपितु आर्थिक आधार भी गौ पालन भी रहा हे, फलस्वरूप गौ माता में तेतींस करोड़ दैवी-देवताओं का वास बताया गया हे, हिन्दू धर्म में गाय को माता के रूप में पूजा जाता हे, पाच-सात दशक पूर्व आधिकांश घरो में गौ पालन होता रहा हे, यह ह्रास उतरोत्तर बढता गया, आधुनिक चकाचोध में लोग भ्रमित होकर गौ वंस की उपेक्षा करने लगे, फलस्वरूप गौ-शालाओं का उदय हुआ !

श्री सालासर बालाजी मंदिर से १/२ किलोमीटर की दूरी पर व रास्ट्रीय राजमार्ग ६५ सुजानगढ़ रोड पर श्री बालाजी गौ-शाला संस्थान स्थित हे, २३ जुलाई १९९८ को गौ-शाला की स्थापना हुई, जिस के संचालन में श्री बालाजी मंदिर, श्री हनुमान सेवा समिति, पुजारी परिवार धर्मानुरागी दान दाताओं एवं ग्राम वासियों का अद्वित्य सहयोग रहा हे !


 

श्री बालाजी गौ-शाला संस्थान, सहयोगी गण

Loading...
सहयोगी दान-दाताओं की सूचि
  1. राज कुमार प्रदीप कुमार सवारगी, कोलक़ता
  2. पवन कुमार तोदी, कोलक़ता
  3. अनिरुध डागा, कोलक़ता

Loading...
भूमि दान-दाताओं की सूचि
  1. गौरीशंकर घड़सीराम रावलवासिया, हिसार
  2. अजय कुमार रमेशचन्द्र नावंद्कर, अमरावती महाराष्ट्र
  3. मूलचंद विकास कुमार मालू, सरदार शहर

गौ-शाला परिसर मैं आप एक बार अवश्य पधारें, श्री बालाजी महाराज आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी करें !

गौशाला आपकी है,
आप इसमें निम्न प्रकार सहयोग कर सकते हैं -

  • गाय गोद सेवा मैं भागीदार बन सकते हैं
  • मीठे पानी के भूमि मैं, भूमि दान कर सकते हैं
  • गायों के मीठे पानी के लिए टेंकर मैं सहयोग कर सकते हैं
  • प्रतिदिन गायों के लिए हरे चारे मैं सहयोग कर सकते हैं
  • गौ-शाला को हरी-भरी बनाने के लिए वृक्षा-रोपण मैं सहयोग कर सकते हैं
  • गौ-शाला मैं परिवार के सदस्य के नाम से वृक्षा-रोपण मैं सहयोग कर सकते हैं
  • आप गौ-शाला के सदस्य बन सकते हैं
  • अंधी एवं विकलांग गायों के उपचार हेतु सहयोग कर सकते हैं
  • गौ-शाला मैं दुधारू गायों का दान कर सकते हैं

भावी योजनायें -

  • गौ-शाला परिसर मैं राधा-कृष्ण मंदिर का निर्माण -
  • गौ-शाला परिसर मैं पशु चिकित्सालय का निर्माण -
  • गौ-शाला मैं गायों के लिए R.O. प्लांट लगवाना -
  • गौ-शाला मैं गौ-सेवकों के लिए आवास-गृह का निर्माण -
  • गौ-शाला मैं चार दीवारी का निर्माण -
  • गायों के लिए पाक भाला का निर्माण -
  • गौ-शाला मैं सांड-शाला का निर्माण -
  • चारा गाह का निर्माण -

    इस प्रकार विकास-क्रम मैं अग्र-सर, आप हम सभी गौ-वंश हितार्थ तन-मन-धन से सहयोग कर यह मानव जीवन सफल बनायेंगें !